IIFCL

IIFCL

IIFCL

IIFCL

IIFCL


एमडी कॉर्नर

एमडी कॉर्नर

श्री पद्मनाभन राजा जयशंकर

प्रबंध निदेशक 

श्री पद्मनाभन राजा जयशंकर के पास विकासोन्‍मुखी बैंकिंग एवं वित्‍तीय डोमेन, बुनियादी ढांचा, बंधक (मोर्टगेज) वित्‍त व पूंजीगत बाजार से जुड़े क्षेत्रों में उच्‍च स्‍तरीय प्रबंधन एवं मंडल स्‍तरीय भूमिकाएं संभालने में 32 से अधिक वर्षों का अपार अनुभव है।

वर्तमान पद से पूर्व, वे राष्‍ट्रीय आवास बैंक (एनएचबी) के कार्यपालक निदेशक थे। उन्‍होंने आईआईएफसीएल प्रोजेक्‍ट्स लिमिटेड (आईपीएल) के निदेशक एवं मुख्‍य कार्यपालक अधिकारी, आईआईएफसीएल एसेट मैनेजमैंट कंपनी लिमिटेड (आईएएमसीएल) के अध्‍यक्ष (न्‍यासी मंडल) एवं आईआईएफसीएल के मुख्‍य महाप्रबंधक के तौर पर भी कार्य किया है। वे इंडिया मोर्टगेज क्रेडिट गारंटी कार्पोरेशन (आईएमजीसी) एवं आईएफसीआई फैक्‍टर्स लिमिटेड के मंडल में भी रहे।

वे संरचित परियोजना वित्‍त के अतिरिक्‍त नये वित्‍तीय उत्‍पादों के विकास, विकासात्‍मक पहलें, जोखिम प्रबंधन एवं अन्‍य क्रियाकलापों में विशेषज्ञता रखते हैं। उन्हें भारत में पहली बार बंधक (मोर्टगेज) प्रतिभूतिकरण कार्य संपादन एवं ऋण संवृद्धि, टेकआउट वित्‍तपोषण एवं प्रतिगामी बंधक (रिवर्स मॉर्टगेज) जैसे कई अन्य सुनियोजित वित्तीय समाधानों के लिए जाना जाता है।

वे क्षेत्रवार नीतियों पर सरकार की विभिन्न समितियों में सरकार को सहयोग देने में भी सक्रिय रूप से लगे हुए हैं जिसमें बुनियादी ढाँचे के लिए पहली समर्पित क्रेडिट एन्हांसमेंट कंपनी के गठन में अग्रणी भूमिका निभाना शामिल है। वे भारत सरकार द्वारा घोषित नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन (एनआईपी) के तहत, बुनियादी ढांचा निवेश के वित्तपोषण से संबंधित अंतर-मंत्रालयीय संचालन समिति (आईएमएससी) के परियोजना वित्तपोषण समूह के प्रमुख सदस्य भी हैं।

श्री जयशंकर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), दिल्ली से प्रौद्योगिकी से स्‍नातकोत्‍तर (एम.टेक) हैं; उन्‍होंने फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (एफएमएस), दिल्ली विश्वविद्यालय से एमबीए (वित्त) भी किया है।